झील किनारे

समय की ताल पर  कदम थिरकने लगे है।
दिल में बसे अरमाँ फिर से मचलने लगे है।।

उतरा  है चाँद मेरा  झील किनारे दुबारा से
ख्वाब मेरे देखो ये फिस से महकने लगे है।।

मैं गुमसुम सा रहता न जानें किस दुनियाँ में,
लोग मुझे अब पागल आवारा कहने लगे है।।

मेरी मोहब्बत की दास्ताँ जो सुनी बादलों ने,
देखो तो वो भी खुशी से अब गरजने लगे है।।

मुसाफिर  को जब  आवाज दी अजनबी ने,
देखो  चलते  कदम भी अब ठहरने लगे है।।

पल जो बितायें है करन ने  संग चिड़िया के,
कि स्वर  मेरे फिर  से कुछ चहकने लगे है।।
©® जाँगीड़ करन KK
19-05-2016... 8:00 am
फोटो--साभार इंटरनेट

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

दस्तक

बचपन का सावन

जीत से हार की ओर