गौरी( दो राजस्थानी दोहे)

1.गौरी  थारा  रूप  ने,  देख  समंदर  आज।
   आपो तो वो खो दियो, उलटा करे जहाज।।
.........................

व्याख्या- प्रस्तुत दोहे में एक आवारा अपनी भोली लेकिन बहुत ही सुंदर प्रेमिका के बारे में बखान करता है। यह पंक्तियाँ तब लिखी गई जब वो आवारा अपनी प्रेमिका को समंदर के बीच से नाव चलाते हुए देखता है।। आवारा अपनी प्रेमिका से कहता है कि ए स्वप्न सुंदरी(गौरी) तुम्हारे को जब आज समुद्र ने पहली बार देखा है तो समुद्र का हाल भी बुरा है, उसके मन की लहरे उत्पन्न हो गई है, फलस्वरूप यह बहुत ही उत्तेजित हो गया है और इसमें तुफान आ गया है, और ये बाकी सब नाविकों की नावें पलट रहा है। यहाँ आवारा का सीधा से अपनी गौरी को संकेत है कि वो अपने रूप का जलवा वहाँ न दिखायें जरा घुँघट निकाल लें, ताकि समुद्र शांत हो जायें।
.................
Explanation - in this couplet the Madden lover describing about her simple but beautiful partner. These lines are written when the lover saw his partner in the middle of sea with her boat. Now the lover ask to his lover - O dream Queen, when the sea see you for first time today it's mood also has failed. In its heart there waves are created. So it is in so much disturbance. Now there is a huge storm in it. And it is destroying the boats of the voyage. The male lover ask to his partner that she should not show her beauty and should keep her head in veil, so the sea Can calm down.
..............

2. समंदर आ थु जाण लें, मनड़ो गौरी माय।
    थारा भी  गुण  गाँवुलो, वाने  घर पहुँचाय।।
....
व्याख्या- प्रस्तुत दोहो में पागल प्रेमी अपनी प्रेमिका की रक्षा खातिर समुद्र से निवेदन करता है। जब वह देखता है कि समुद्र में तुफान आने लगा है तो वो भयभीत हो जाता है और समु्द्र से तुफान को रोकने की मिन्नत करता है। वह समुद्र से कहता है कि मेरा मन गौरी(प्रेमिका ) में बसा हुआ है, अगर उसे कुछ हुआ तो मेरा जीना मुश्किल हो जायेगा। आगे प्रेमी कहता है कि हे समु्द्र देव ! अगर आप मेरी गौरी को सुरक्षित घर पहुँचा दोगे तो मैं आपके भी गुण गाऊँगा। आपकी महिमा का बखान अपने लफ़्जों में करूँगा।
प्रस्तुत पंक्तियों में पागल के मन में अपनी प्रेमिका के प्रति प्रगाढ़ प्रेम साफ दिखाई देता है।
.................
Explation- in this couplet the male lover worships to sea for protect his lover. When HE sees storm in the sea he got afraid and pray to God to stop the storm. He tells to God that his heart is with his lover, if there happens anything wrong his lover he can't be alive. Further the lover says that hey God of sea!!! If you take my partner safe at home I will tell the people about you. I will glorify about you in my own words.
In these lines the we can see the true love in the heart of lover.
.....
©® जाँगीड़ करन KK
21/04/2015_18:30 pm

टिप्पणियाँ