सोमवार, 19 दिसंबर 2016

इक शायर

घर में रहकर बेघर होता है,
शायर शहर शहर होता है।

सबकी वाही वाही लूटकर
अकेले  में  मगर  रोता  है।।

लोग जिन्हें लफ़्ज समझते,
छालों का वो सफर होता है।

आज यहाँ कल देश पराया,
जानें  कब  किधर होता  है।

शांत समंदर के बैठ किनारे,
खुद  में  वो लहर  होता है।।

किस कश्ती की करूँ सवारी,
कैसा  हरदम  भरम होता है।

जिंदगी तो बन गई है करन,
बस होठों पर तो स्वर होता है।
©® जाँगीड़ करन kk
19_12_2016____7:30morning

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें