ऊलझन

इक छन से
              इक मन की
      बढ़ी ऊलझन।।

इक घन से
             इक तन की
        बढी तड़पन।।

इक तन की
              इक तन तब
         बनी करधन

इक फन से
             इक धन की
        बढ़ी विचलन।।

इक तन से
             इक तन की
        बढ़ी धड़कन।।
©®जाँगीड़ करन kk

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

दस्तक

बचपन का सावन

जीत से हार की ओर