बुधवार, 1 फ़रवरी 2017

सरस्वती वंदना

तु ही माँ वीणापाणी,
                       तु ही माँ शारदे।।
तेरी शरण में हूं मैया,
                       जीवन का मुझे सार दें।
तेरा वैभव गा सकुँ मैं,
                       कंठ में ऐसी झंकार दें।
सारे जग में नाम कमाऊं,
                        ऐसा मुझे आधार दें।
कोई दुखी रहे नहीं यहां,
                        खुशियों का संसार दें।
स्वर साधना लें निकला हुँ,
                         गीत का आकार दें।
#karan
01_02_2017____6:00AM

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

A letter to swar by music 30

Dear SWAR, ............ आसमां को ताकता हूं कि कहीं बादल तो नजर आयें, आंखों के बादल मगर है कुछ देखने भी ना दें मुझको। ............ देखो ...