शनिवार, 15 अप्रैल 2017

Alone boy 16

Suno.

यह मंदिर
से आ रही
घंटी की
आवाज
जिंदगी के
स्वर को
झंकृत
करती है,
कि दिल में
कोई
हलचल सी
मचती है।
कब सुनाई
देगा
ऐसे ही
तेरे पैरों
से
पायल की
झंकार जो
सुन लुँ
तो दिल
को जैसे
शुकून
मिल जायें,
और
मेरी रातों
की
नींद
भी चैन से
आ जायें,
सुना नहीं तुमने,
कोई तुम्हारी
आहट
के इंतजार में
अब भी
दरवाजे को ताकता है,
हर शाम
युहीं
मंदिर की
घंटी के संग
तेरे ख्याल में
खोया
कोई अब भी.......

©® जाँगीड़ करन KK
15_04_2017__19:20PM

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

A letter to swar by music 34

Dear Swar, .................. बहारें तस्वीर से आयें या हकीकत से, जिंदगी तो हर हाल में खिलखिलानी है।। ........ और देखो, इधर बरसात के ब...